शुभ मुहूर्त में हुआ होली दहन, देर रात तक चला फाग के गीतों पर होली का जश्न

भीलवाड़ा। शहर सहित जिलेभर में होलिका दहन परपंरागत तरीके से किया गया। भीलवाड़ा शहर के प्रमुख चौराहों पर होलिका सजाई गई।होलिका दहन शुभ मुहूर्त में किया गया। इसके बाद देर रात तक चंग की थाप पर फाग के गीतों होली का जश्न चलता रहा। होली जलने के साथ ही युवा अपने आपकों रोक नहीं पाए और रंगों से एक-दूसरे को रंग दिया। शहर के कई जगह होलिका दहन के प्रमुख आयोजन हुए। इनमें बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लिया। नवजात बच्चों को होली की परिक्रमा दिलाई गई। बाद में महिलाओं ने होली की पूजा अर्चना कर जल चढ़ाया। वहीं लोगों ने होली में गेहूं की बालिया व चने की सिकाई की। होली के दूसरे दिन से अगले सात दिन तक गांवों गेर व फाग के गीतों का आयोजन होगा।

प्रदोष बेला में होलिका दहन
शहर के काशीपुरी वकील कॉलोनी में सुरक्षा द्वारा नंबर एक पर प्रदोष वेला में होलिका दहन किया गया। पंडितों के मंत्रोच्चार के बाद विधि—विधान से पूजा अर्चना के बाद होलिका दहन किया गया।
इस मौके पर कॉलोनीवासी मौजूद रहे। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक पारस जैन, शहर कोतवाल विवेक सिंह, जितेंद्र पुरोहित, अर्चित गग्गड़ व कैलाश आचार्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे। अतिथियों द्वारा पूजा अर्चना के बाद शुभ मुर्हूत प्रदोष बेला में होलिका दहन किया गया।

 

 

गांवों में भी हुआ आयोजन
जिले के मांडलगढ़, बिजौलिया, गुलाबपुरा, लाडपुरा, आकोला, सवाईपुर, आसींद, शाहपुरा, जहाजपुर, कोटड़ी, बनेड़ा, मांडल, बड़लियास, बरूंदनी, ब्राह्मणों की सरेरी ग्रामीण क्षेत्रों में सुबह से ही ग्रामीण क्षेत्रों में हर्ष और उल्लास का माहौल रहा। शाम को सभी गांवो में होलिका दहन कार्यक्रम आयोजित किया गया। लोगों ने एक दूसरे को मिठाइयां बांटकर होली की शुभकामनाएं भेजी।

बाजारों में रंग गुलाल की रौनक
वही बाजारों में रंग गुलाल की खरीद की रौनक है ।शहर में यूं तो होली का धूम धमाका शीतला सप्तमी पर रहता है। इसके बावजूद यहां पर धुलण्डी पर्व को लेकर जोर से मिनी इंडिया के रुप में प्रदेश में ख्यात भीलवाड़ा शहर में विभिन्न राज्यों के लोग बसे हुए हैं। इसी कारण यहां पर धुलंडी पर्व पर भी लोग रंग खेलते हैं। उन्हीं के उत्सव को लेकर भीलवाड़ा शहर के बाजार रंग एवं गुलाल से किसानों से सजे हुए हैं । गुरुवार को होली पर्व पर यहां रंग और गुलाल की दुकानों पर भीड़ देखी गई। व्यवसाई बताते हैं कि इस बार जीएसटी के कारण और रंग और गुलाल की कीमतें 18 फ़ीसदी महंगी हुई है।

Follow On Google+

android app available on play store download now