खुले में नहीं छोड़े गोवंश, गोशालाओं को दिए निर्देश

सांचौर क्षेत्र की सड़कों पर विचरण कर रही टैग लगी गायों का मामला पत्रिका में उजागर होने के बाद प्रशासन में हड़कम्प मच गया है।प्रशासन ने इस मुद्दे को गम्भीरता से लेते हुए शहर की गोशालाओं को सख्त निर्देश जारी किए हैं।
इस मामले में गोपाल गोवर्धन गोशाला के संचालक ने स्पष्टीकरण जारी करते हुए बताया कि उनकी गोशाला से संबधित किसी भी गोवंश को खुला नहीं छोड़ा जा रहा है, बल्कि उनके अधीन संचालित गोशालाओं में पल रहे गोवंश को पूर्ण संरक्षण दिया जा रहा है।

नगरपालिका परिक्षेत्र में विचरण करने वाले गोवंश को भी गोशाला संरक्षण में ले रही है। प्रशासन व गोशाला संचालकों के बीच बनी सहमति के आधार पर बेसहारा गोवंश को गोशालाओं में भिजवाने का कार्य किया जा रहा है।
नहीं छोड़ रहे खुला नंदीशाला में टैग लगे सभी गोवंश पल रहे हैं, जिन्हें कभी भी खुले में नहीं छोड़ा जाता।
गोवंश की मॉनीटरिंग प्रबंधन कमेटी नियमित रूप से कर रही है। वहीं समय- समय पर प्रशासन भी इसकी जांच करता है। समाजसेवियों द्वारा भी इस पुण्यार्थ कार्य के लिए लगातार सहयोग दिया जा रहा है।

राव मोनसिंह, अध्यक्ष, महावीर जीवदया गोशाला गोलासन हो रहा संरक्षण गोधाम पथमेड़ा में गायों का पूर्ण रूप से संरक्षण हो रहा है। टैग लगा कोई गोवंश गोशाला से बाहर नहीं है।
नगरपालिका क्षेत्र द्यह्य बेसहारा गोवंश को पिछले १५ दिन से ज्यादा समय से गोशाला लाने का कार्य किया जा रहा है। ट्रस्ट ने यह सकारात्मक निर्णय लिया है।
गोभक्तों की ओर से सहयोग किया जा रहा है।

केशाराम सुथार, अध्यक्ष, गोवर्धन गोशाला ट्रस्ट, पथमेड़ा गोशाला भेजा नगरपालिका क्षेत्र में घूमने वाले बेसहारा गोवंश को गोशालाओं में भिजवाने का कार्य किया जा रहा है।
करीब 100 से अधिक गोवंश गोशाला भेजे जा चुके हैं। इस कार्य ेमें गोशाला वाले सहयोग कर रहे हैं। हमारा प्रयास है किसी भी गोशाला का कोई भी गोवंश खुला नहीं घूमे। गोधाम पथमेड़ा इसके लिए संकल्पबद्ध है।

अमराराम माली, कोषाध्यक्ष, गोवर्धन गोशाला ट्रस्ट, पथमेड़ा दिए हैं निर्देश.. टैग लगी गायें शहर में नहीं घूमे इसके लिए शहर की गोशालाओं को निर्देश जारी किए हैं।

वहीं गोधाम पथमेड़ा से भी सहमति बनी है कि शहर में बेसहारा घूमने वाले गोवंश को गोधाम पहुंचा जाए। करीब दो सप्ताह से यह कार्य चल रहा है। अब तक करीब ११० गोवंश को पथमेड़ा पहुंचाया जा चुका है।

पीताम्बरदास राठी तहसीलदार सांचौर

Follow On Google+

android app available on play store download now